णमोकार मंत्र

णमोकार मंत्र है न्यारा, इसने लाखों को तारा।
इस महा मंत्र का जाप करो, भव जल से मिले किनारा।

णमो अरिहंताणं,
णमो सिद्धाणं, 
णमो आयरियाणं, 
णमो उवज्झायाणं, 
णमो लोए सव्व साहूणं।
एसोपंचणमोक्कारो, सव्वपावप्पणासणो। 
मंगला णं च सव्वेसिं, पडमम हवई मंगलं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कष्ट विमोचन मंगल स्तोत्र

श्री गजानन प्रसन्न