सुभाषितानि

अकारणं रूपमकारणं कुलं महत्सु नीचेषु च कर्म शोभते।
इदं हि रूपं परिभूतपूर्वकं तदेव भूयो बहुमानमागतम्॥


Neither beauty nor lineage is the factor responsible for people to be great or small. Be a mighty or a small person, it is his work that adores him. If one concentrates more on his work than his external appearance, he will surely attain more respect. लोगों के लिए महान या छोटा होने के लिए न तो उनका सौंदर्य और न ही कुल जिम्मेदार घटक हैं। चाहे कोई बड़ा हो या छोटा हो, यह उस व्यक्ति का कार्य है जो उसे बनाता हैं। यदि कोई सुंदरता की अपेक्षा अपने काम पर अधिक ध्यान केंद्रित करता है, तो वह निश्चित रूप से अधिक सम्मान प्राप्त करेगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कष्ट विमोचन मंगल स्तोत्र

श्री गजानन प्रसन्न