स्वदेशे पूज्यते राजा विद्वान् सर्वत्र पूज्यते

विद्वत्वं च नृपत्वं च न एव तुल्ये कदाचन्। स्वदेशे पूज्यते राजा विद्वान् सर्वत्र पूज्यते॥

भावार्थ :
विद्वता और राज्य अतुलनीय हैं, राजा को तो अपने राज्य में ही सम्मान मिलता है पर विद्वान का सर्वत्र सम्मान होता है|


स्वगृहे पूज्यते मूर्खः स्वग्रामे पूज्यते प्रभुः। स्वदेशे पूज्यते राजा विद्वान् सर्वत्र पूज्यते।।

अर्थात- मूर्ख अपने घर में महत्व पाता है, प्रभु (धनाड्य व्यक्ति) अपने गाँव में और राजा अपने देश में पूजा जाता है। जबकि विद्वान सभी जगहों पर पूजा जाता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कष्ट विमोचन मंगल स्तोत्र

श्री गजानन प्रसन्न