यह ब्लॉग खोजें

शनिवार, 20 अक्तूबर 2018

रामत्व

*रामत्व है क्या* ???

*काजु हमार तासु हित होई*

*मेरा काम भी बने और अगले की भी हानि न हो*,
यदि कोई वैरी भी है तो उसकी भी हित की चिंता ही रामत्व है।
और हमलोग?
हमलोग प्रायः यहीं पर चूक जाते हैं।
अपने हित के लिए,
अपने काम बनाने के चक्कर में यह भूल जाते हैं कि मेरे कारण किसी को क्षति हो रही है।
हम अपने लक्ष्य प्राप्ति के चक्कर में कितने के सद् आकांक्षाओं को भी कुचल देते हैं।
जरा उस दृश्य को अपने मन में कल्पना करें कि जब अंगद श्रीराम जी के आज्ञा से दूत बनकर लंका में जाने लगे...
बालितनय बुधि बल धामा। लंका जाहु तात मम कामा।।
अर्थात् अंगद श्रीराम जी के काम से जा रहे हैं, अतः उन्हें चाहिए कि जो श्रीराम काज में बाधक बने उसे शत्रु भाव से उसके साथ व्यवहार करना है। और इस दौरान उसकी अर्थात् दूसरे पक्ष की चिंता नहीं करना चाहिए पर श्रीराम जी कहते हैं कि नहीं,
हमें अपने हित साधने के चक्कर में इतना ध्यान रखना ही चाहिए कि यदि संभव हो तो शत्रु की भी भलाई सोचें।
क्योंकि वास्तव में न तो कोई किसी का शत्रु है और न मित्र बल्कि कुछ कारण, परिस्थिति हैं जो हमें वहां खड़ा कर देता है कि प्रतीत होता है कि हम एक दूसरे के शत्रु हैं।
जटायु श्रीराम जी के मुख से सीता हरण करने वाला पापी रावण को मुक्त होकर उनके लोक में आना सुनकर ,जहां जाना बड़े बड़े ऋषि मुनियों के लिए भी कठिन है, अत्यंत आश्चर्य में पड़ गए...
सीता हरन तात जनि कहेहु पिता सन जाई।
जौं मैं राम त *कुल सहित कहिहि दसानन आई*।।
ऐसे ऐसे पापी जो गाय ,भैंस, गदहे, मनुष्य, बंदर आदि को खा जाते हैं वे वैकुंठ जाएंगे??
ये तो बिल्कुल वेद शास्त्र के नियमों (जो जस करइ सो तस फल चाखा)के विरुद्ध है कि नहीं???
पर श्रीराम मत कहता है कि केवल कर्म नहीं बल्कि उसकी परिस्थितियों पर भी ध्यान दीजिए कि विश्रवा मुनि के संतान असुर क्यों हुए?
राजा सुकेतु की पुत्री ताड़का ऐसी दुष्टा क्यों हुई???
हां ये सत्य है कि कर्मफल मिले पर उसकी स्थिति परिस्थिति पर भी विचार करते हुए...
एकहि बान प्रान हरी लीन्हा।
और अब ये दीन कहां जाएगी इस पर विचार करते हुए...
दीन जानि तेही निज पद दीन्हा।।
मेरे राम जी की यही विशेषता *रामत्व* प्रदान करता है....
सभी मित्रों को विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाएं
सादर प्रणाम
जय जय सीताराम जी

From WHATSAPP

कोई टिप्पणी नहीं:

पूजन एवं देव स्थापना विधान

 पूजन एवं देव स्थापना विधान http://www.uou.ac.in/sites/default/files/slm/BAKK-202.pdf

लेबल

नवरात्र दुर्गा पूजा नवदुर्गा नवरात्रि महा नवरात्रि राम नवरात्रि महाशिवरात्रि सरस्वती सरस्वती वंदना मंत्र गणेश वंदना Shri Hanuman गणपति स्रोत शिवरात्रि श्री सरस्वती आरती बाल कृष्ण सुभाषितानि अच्युतं केशवं रामनारायणम् अच्युतस्याष्टकम् कनकधारा स्तोत्र कृष्ण गजमुख चालीसा बजरंग बाण विघ्नहर्ता शिव का चमत्कारी स्त्रोत श्री संकटमोचन हनुमानाष्टक श्रीगणपति Chalisa Mangal Stotra Religious books Shri Hanuman Chalisa shiv अथर्वशीर्ष अहोई माता ऋण मोचक मंगल स्तोत्र कनकधारा स्तोत्रम् (हिन्दी पाठ) करवा चौथ कष्ट विमोचन मंगल स्तोत्र कामदा एकादशी कौण्डिन्य ऋषि गणेश स्तोत्रं गीत गोपालं चैत्र नवरात्रि णमोकार मंत्र दशरथकृत शनि स्तोत्र दुर्गाष्टमी निर्वाण षटकम् नील सरस्वती स्तोत्र पुरुषोत्तम मास पूजन प्रार्थना बधाई भजन भज गोविन्दम् भजन भागवत भोग आरती मंगल स्तोत्र मङ्गलम् भगवान विष्णुः मनसा सततम् स्मरणीयम् महिषासुरमर्दिनि स्तोत्रम् रामत्व रामदूत रामायणं रुद्राष्टकम् वसंत नवरात्रि विद्वान् सर्वत्र पूज्यते विष्णुपञ्जरस्तोत्रम् शांति मंत्र शिवताण्डवस्तोत्रम् श्री गजानन प्रसन्न श्री गणेश श्री दत्तात्रेयवज्रकवचम्‌ श्री शिव श्री शिव चालीसा श्री शिव पंचाक्षर स्तोत्र श्री शिव पंचाक्षर स्तोत्रम् श्री शिवमङ्गलाष्टकम् श्री स्कन्द पुराण श्रीमद् हनुमन्त बीसा श्रीराम तांडव स्तोत्रम् षोडशोपचार पूजन सुखदाता स्तोत्र स्त्रोत हनुमान