Mahashivratri Katha - 4

फाल्गुन मास के दिन आने वाली महाशिवरात्रि पर शिव जी और मां पार्वती का विवाह हुआ था। इसलिए भी इस पर्व को महाशिवरात्रि कहा जाता है। इस दिन शिव की पूजा विधि विधान से करें। शिव जी पर एक लोटा जल चढ़ाने से ही भगवान इंसान की मुराद पूरी कर देता है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कष्ट विमोचन मंगल स्तोत्र

अच्युतस्याष्टकम् : अच्युतं केशवं रामनारायणम्

श्री गजानन प्रसन्न